Archive for category ઇતિહાસ

उज्जैन पृथ्वी का केंद्र माना जाता है

#यह_जानकर_आश्चर्य_होगा_की_भारत_में ऐसे शिव मंदिर है जो केदारनाथ से लेकर रामेश्वरम तक एक सीधी रेखा में बनाये गये है। आश्चर्य है कि हमारे पूर्वजों के पास ऐसा कैसा विज्ञान और तकनीक था जिसे हम आज तक समझ ही नहीं पाये? उत्तराखंड का केदारनाथ, तेलंगाना का कालेश्वरम, आंध्रप्रदेश का कालहस्ती, तमिलनाडू का एकंबरेश्वर, चिदंबरम और अंततः रामेश्वरम […]

,

Leave a comment

इंडिया पर शासन करना है तो ब्राह्मणों का समूल विनाश करना होगा

Source : Unknown गुलामी के दिन थे। प्रयाग में कुम्भ मेला चल रहा था। एक अंग्रेज़ अपने द्विभाषिये के साथ वहाँ आया। गंगा के किनारे एकत्रित अपार जन समूह को देख अंग्रेज़ चकरा गया। उसने द्विभाषिये से पूछा, “इतने लोग यहाँ क्यों इकट्टा हुए हैं?” द्विभाषिया बोला, “गंगा स्नान के लिये आये हैं सर।” अंग्रेज़ […]

Leave a comment

બાબર અને રાણા સાંગા

લેખક: અજ્ઞાત બાબર અને રાણા સાંગા વચ્ચે ભયંકર યુદ્ધ ચાલી રહ્યું હતું. બાબરે યુદ્ધમાં પ્રથમ વખત તોપોનો ઉપયોગ કર્યો હતો. તે દિવસોમાં યુદ્ધ માત્ર દિવસનાં જ લડાતું. સાંજના સમયે બંને દળોના સૈનિકો પોતાની શિબિરમાં આરામ કરતાં. ફરી પાછું સવારે યુદ્ધ થતું !!! લડતાં લડતાં સાંજ પડી ગઈ હતી. બંને પક્ષો તેમના શિબિરોમાં ખોરાક તૈયાર કરી […]

Leave a comment